पित्ताशय की थैली

0
88
पित्ताशय की थैली
पित्ताशय की थैली

आज इस आर्टिकल के माध्यम से हम आपको पित्ताशय की थैली के बारे में विस्तार से जानकारी देंगे। इससे पहले आर्टिकल में आप Makeup and Cosmetics Vocalbulary के बारे में विस्तार से पढ़ चुके हैं।

पित्ताशय की थैली

Gall bladder क्या है

क्या आप जानते हैं गॉल ब्लैडर की खराबी उच्च कोलेस्ट्रॉल, विटामिन डी की कमी और हार्मोनल असंतुलन का कारण हो सकती है ?

पित्ताशय की थैली क्या है और यह क्या करती है ??

गॉल ब्लैडर एक छोटा नाशपाती के आकार का अंग है जो पेट के ऊपरी दाहिने हिस्से में लीवर के नीचे स्थित होता है।

No. 1.-पित्ताशय की थैली पित्त को जमा करती है, जो यकृत से स्रावित होती है। Gall bladder भोजन को पचाने के लिए इस पित्त को ग्रहणी में छोड़ती है।

No. 2.-पित्त या बाइल का उपयोग वसायुक्त भोजन, वसा में घुलनशील विटामिन जैसे ए, डी, ई, के और खनिजों के पाचन और अवशोषण के लिए किया जाता है।

No.  3.-अधिकतरGall bladder को हृदय और गुर्दे जैसे महत्वपूर्ण अंग के रूप में नहीं देखा जाता है लेकिन यह शरीर का एक बहुत ही महत्वपूर्ण अंग है।

Meaning of Gall Bladder and its Symptoms-

यदि पित्ताशय की थैली ठीक से काम न करे तो क्या होगा?

नोट-

1.-यदि पित्ताशय की थैली पित्त नहीं छोड़ती है या विभिन्न कारणों से पित्त गाढ़ा हो जाता है तो यह निम्नलिखित स्थितियों का कारण बनता है

>विटामिन डी की कमी।

>उच्च कोलेस्ट्रॉल स्तर ।

>एसिड रिफ्लेक्स

2.-रक्त की अम्लता जिसके परिणामस्वरूप कई गंभीर बीमारियां होती हैं। जैसे ऑटोइम्यून रोग, हृदय रोग, सूजन संबंधी रोग आदि होने का खतरा होता है।

 3.-पित्त ही एस्ट्रोजन हार्मोन को तोड़ता है, पित्ताशय की थैली की खराबी के परिणामस्वरूप उच्च एस्ट्रोजन और निम्न प्रोजेस्टेरोन हार्मोन का स्तर होता है, यह उच्च एस्ट्रोजन चीजों को बढ़ाता है जिससे ट्यूमर, पॉलीप्स, सिस्ट, फाइब्रॉएड, थायरॉयड नोड्यूल और यहां तक ​​कि स्तन कैंसर में परिणाम हो सकता  है।

No. 4.-ऑस्टियोपोरोसिस

No. 5.-कब्ज

पित्ताशय की थैली-

ज्यादातर उपरोक्त लक्षणों में Gall bladder की भूमिका को नजरअंदाज कर दिया जाता है और केवल लक्षणों को दूर करने के लिए दवाएं निर्धारित की जाती हैं, लेकिन समस्या को ठीक करने के लिए पित्ताशय की थैली के कार्य में सुधार बहुत महत्वपूर्ण है।

अब प्रश्न यह उठता है कि सामान्य पित्ताशय की समस्याएं क्या हैं?

No.1.-पित्ताशय की पथरी

No.2.-पित्ताशय की थैली में संक्रमण

No.3.-पित्ताशय की थैली का कैंसर

No.4.-पित्ताशय की थैली की सूजन

No.5.-पित्त पथरी अग्नाशय शोथ

Gall bladder की पथरी क्या है,इसके लक्षण और कारण क्या है?

पित्ताशय की पथरी पित्ताशय की थैली में जमा ठोस पदार्थ होते हैं, वे संख्या में कई हो सकते हैं और इसका आकार रेत के कणों से लेकर टेनिस बॉल के आकार तक भिन्न होता है।”

पित्ताशय की थैली-

पित्त पथरी के प्रकार-

No.1.-कोलेस्ट्रॉल पित्त पथरी- जब कोलेस्ट्रॉल की अधिकता होती है जिसे पित्त पचाने में असमर्थ होता है तो यह अतिरिक्त कोलेस्ट्रॉल पित्त पथरी बनाने के लिए जमा हो सकता है।

 No.2.- पिगमेंट पित्त पथरी-  बिलीरुबिन की अधिकता से इस प्रकार की पथरी बन सकती है।

Gall bladder में पथरी के बनने के कारण-

पित्त पथरी मुख्य रूप से 3 कारणों से बनती है-

 No.1.पित्त में कोलेस्ट्रोल की अधिकता हो तो

No.2.यदि bile में बिलीरुबिन की अधिकता है

 No.3.अगर पित्ताशय सही ढंग से खाली नहीं हो पाती है।

पित्त पथरी होने का खतरा किसे है?

>अधिक वजन और कम वजन वाला व्यक्ति >महिलाओं को पुरुषों से ज्यादा खतरा

>आयु 40 वर्ष से अधिक

>उच्च वसा वाले आहार का सेवन करने वाले व्यक्ति

>जिस व्यक्ति का वजन अचानक कम हो जाता है

>जो महिलाएं गर्भनिरोधक गोलियों या अन्य हार्मोनल उपचार का उपयोग कर रही हैं

>मधुमेह से पीड़ित व्यक्ति

>जो लोग वसा में घुलनशील विटामिन कैप्सूल जैसे विटामिन डी, विटामिन ई, इवनिंग प्रिमरोज़ तेल, मछली का तेल आदि ले रहे हैं, ये सप्लीमेंट पित्ताशय की थैली पर अतिरिक्त बोझ डाल सकते हैं।

>चिंता, तनाव के कारण अपान वायु को ऊपर की ओर भेज देती है और पित्ताशय को  पित्त को निकलने से रोकती है।

पित्ताशय की थैली-

Gall bladder के लक्षण-

No. 1.-आमतौर पर पित्त पथरी खामोश होती है, 80% स्पर्शोन्मुख होते हैं। लक्षण तभी प्रकट होते हैं जब पथरी पित्ताशय में जलन पैदा करती है।

No. 2.-दाहिने ऊपरी पेट में तेज दर्द जो छाती, कंधे या पीठ तक फैल सकता है।

No. 3.-अपच, जी मिचलाना, भूख कम लगना

No. 4.-बुखार

No. 5.-मिट्टी के रंग का मल

No. 6.-पीली त्वचा

Gall bladder का उपचार/निदान करने के उपाय-

अन्य लक्षणों की उपस्थिति के साथ अल्ट्रासाउंड परीक्षा द्वारा इसका आसानी से निदान किया जा सकता है।

No. 1.-आयुर्वेद में इसे पित्तशरी कहा जाता है, जिसका उचित आहार, दवा और उपचार द्वारा इलाज और रोकथाम किया जा सकता है

No. 2.- डायटेटिक कंट्रोल से छोटे स्टोन को साफ किया जा सकता है लेकिन अगर गॉलस्टोन का साइज बहुत बड़ा हो तो सर्जरी जरूरी हो जाती है।

No. 3.-पित्ताशय की थैली की रक्षा कैसे करें

No. 4.-आयुर्वेद पित्ताशय की थैली के समुचित कार्य में मदद कर सकता है।

No. 5.-पित्ताशय की समस्याओं और अन्य समस्याओं जैसे उच्च कोलेस्ट्रॉल, विटामिन डी की कमी, एसिडिटी आदि को रोकने के लिए उचित पित्त प्रवाह बहुत महत्वपूर्ण है।

पित्ताशय की थैली-

Gall bladder की समस्याओं के उपचार के लिए निम्नलिखित बातों का पालन करें

1.-गर्म और पका हुआ खाना ही खाएं।

2.-आहार में गाजर, चुकंदर, खीरा, लौकी, एलोवेरा, हल्दी, सोंठ, काली मिर्च,  पिप्पली, हींग, मेथीदाना आदि को शामिल करें।

3.-खट्टे फल लें

4.-कम वसा वाला आहार लेना चाहिए।

5.-कैनोला, सैफलॉवर आदि जैसे रिफाइंड तेलों से बचें, खाना पकाने के लिए घी, तिल का तेल, मूंगफली या सरसों के तेल का उपयोग करें।

6.-रात में भारी भोजन आदि से बचें।

7.- ठंडे भोजन और पेय से बचें।

8.- ठंडी स्मूदी से बचें ।

9.-नीम, हरीतकी, एलोवेरा, गोक्षुर आदि जड़ी बूटियां उपयोगी हैं

10.-आहार और व्यायाम से वजन बनाए रखना चाहिए।

11.-उपवास, हल्का आहार भी कारगर है।

12.-आयुर्वेदिक आहार नियमों, दैनिक दिनचर्या और मौसमी दिनचर्या का पालन करें।

13.-योग- वज्रासन, पवनमुक्त आसन, पश्चिमोत्तन आसन, शलभासन आदि योग अच्छे हैं।

14.तनाव दूर करने के लिए मेडिटेशन करें।

Gall bladder के बारे में लोगों की धारणा-

1.आजकल पित्त की पथरी एक बहुत ही आम समस्या बनती जा रही है और Gall bladder को हटाना भी आम बात मानी जाती है।

2.बहुत से लोग सोचते हैं कि पित्ताशय को हटाने से सभी समस्याएं हल हो जाएंगी, लेकिन यदि आप अपने आहार और जीवन शैली को जारी रखते हैं जो पित्त पथरी का कारण बनती है तो वही तंत्र आपके शरीर के अन्य अंगों को नुकसान पहुंचाएगा।

3.-पित्ताशय को हटाना समाधान नहीं है, बल्कि अन्य स्वास्थ्य समस्याओं की शुरुआत है, इसलिए सबसे पहले अपने Gall bladder की रक्षा करने और उसके उचित कामकाज को बनाए रखने का प्रयास करें।