भारत के केंद्र शासित प्रदेश

0
49
भारत के केंद्र शासित प्रदेश
भारत के केंद्र शासित प्रदेश

भारत के केंद्र शासित प्रदेश – आज इस आर्टिकल के माध्यम से हम आपको भारत के केंद्र शासित प्रदेश के बारे में विस्तार से जानकारी देंगे। इससे पहले आर्टिकल में आप भारत के राज्य और उनकी राजधानी के बारे में विस्तार से पढ़ चुके हैं।

भारत के केंद्र शासित प्रदेश

वर्तमान समय में भारत में कुल 9 केंद्र शासित प्रदेश हैं। सभी केंद्र शासित प्रदेशों की राजधानी निम्नलिखित हैं-

No.1. दिल्ली- दिल्ली भारत का राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र है।भारत की राजधानी दिल्ली है लेकिन एक शहर होने के बावजूद दिल्ली के पास अपना उच्च न्यायालय, मुख्यमंत्री और मंत्रिपरिषद है । इसलिए इसे 1991 में अर्द्ध-राज्य का दर्जा दे दिया गया। सर्वप्रथम उदयपुर में दिल्ली शब्द का प्रयोग प्राप्त शिलालेखों पर पाया गया, जिसका समय 1170 ईसवी निर्धारित किया गया। 1316 ईसवी तक शायद यह हरियाणा की राजधानी बन चुकी थी। 1206 इसवी के बाद दिल्ली सल्तनत की राजधानी बनी।

No.2. चंडीगढ़- चंडीगढ़ भारत का ऐसा केंद्र शासित प्रदेश है जो दो राज्यों पंजाब और हरियाणा की राजधानी भी है।यहाँ का शासन प्रशासक द्वारा चलाया जाता है।

Union Territories of India-

No.3. जम्मू और कश्मीर- जम्मू और कश्मीर अब एक केन्द्र शासित प्रदेश है।

No.4. लद्दाख– लद्दाख को जम्मू कश्मीर से अलग करके केंद्र शासित प्रदेश का दर्जा दिया गया है।

No.5. दादर और नागर हवेली- भारत के इस प्रदेश पर मराठाओं और पुर्तगालियों का शासन रहा। इसे 11 अगस्त 1961 को भारत में शामिल किया गया। इसकी राजधानी सेलवासा है।पहले यह एक केन्द्र शासित प्रदेश था और अब दादरा और नगर हवेली और दमन और दीव केंद्र शासित प्रदेश का भाग है। यह दक्षिणी भारत में महाराष्ट्र और गुजरात के बीच स्तिथ है|  हालाँकि दादरा, जो कि इस प्रदेश कि एक तालुका है, कुछ किलोमीटर दूर गुजरात में स्तिथ । इस प्रदेश की राजधानी सिलवासा है। यह क्षेत्र दमन से 10 से 30 किलोमीटर दूर है।

भारत के केंद्र शासित प्रदेश

No.6. अंडमान-निकोबार द्वीप समूह:-इस प्रदेश को किसी भी राज्य में मिलाना संभव नहीं था क्योंकि ये बहुत दूर है और इस द्वीप समूह पर जारवा जनजाति रहती है जिसकी संस्कृति से छेड़छाड़ करना भारत सरकार द्वारा अपराध घोषित किया गया है।इन दो कारणों के चलते अंडमान निकोबार द्वीप समूह को राज्य का दर्जा दिए जाने की बजाये एक केंद्र-शासित प्रदेश बनाया गया। इसकी राजधानी पोर्ट ब्लेयर है। यह  एक केन्द्र शासित प्रदेश है। बंगाल की खाड़ी के दक्षिण में ये हिन्द महासागर में स्थित है।यह  द्वीप समूह लगभग 572 छोटे बड़े द्वीपों से मिलकर बना है सिर्फ कुछ ही द्वीपों पर इसमें लोग रहते हैं। इसकी राजधानी पोर्ट ब्लेयर है।

भारत के केंद्र शासित प्रदेश

No.7. लक्षद्वीप- भारत की सुरक्षा की दृष्टि से लक्षद्वीप-बहुत महत्वपूर्ण है। इस संघीय राज्य की राजधानी कवरत्ती
है। इसे केंद्र शासित प्रदेश बनाने का कारण भी अंडमान निकोबार द्वीप समूह के समान ही है अर्थात यहाँ की अलग
संस्कृति और बाकी राज्यों से दूरी। इस समूह के सिर्फ दस द्वीपों पर मानव आबादी है। भारतीय 2011 की जनगणना
के अनुसार, केन्द्र-शासित प्रदेश की कुल जनसंख्या 64,473 थी। स्थानीय मुस्लिमों की अधिकांश आबादी है और
उनमें से भी ज्यादातर सुन्नी सम्प्रदाय के हैं। जातीय रूप से द्वीप समूह निकटतम भारतीय राज्य केरल के मलयाली
लोगों के समान हैं। अधिकांश आबादी लक्षद्वीप की मलयालम बोलती है जबकि मिनिकॉय द्वीप पर माही या माह्ल
भाषा सबसे अधिक बोली जाती है। एक हवाई अड्डा अगत्ती द्वीप पर मौजूद है। मछली पकड़ना और नारियल की
खेती लोगों का मुख्य व्यवसाय है, साथ ही टूना मछली का निर्यात भी किया जाता है।

भारत के केंद्र शासित प्रदेश

No.8. दमन और दीव-  दमन और दीव की राजधानी दीव है। यह  प्रदेश भारत के स्वतंत्र होने के काफी समय बाद तक पुर्तगालियों के कब्जे में रहा और 1961 में इसे स्वतंत्र कराकर भारत में मिलाया गया।

No.9. पुदुच्चेरी- पुदुच्चेरी केंद्रशासित प्रदेश की राजधानी पुदुच्चेरी है, जो इसका सबसे बड़ा शहर है।

भारत का यह क्षेत्र लगभग 300 सालों तक फ्रांस के अधिकार में रहा। पयहाँ का शासन उपराज्यपाल द्वारा चलाया जाता है।