पीएम मोदी और राहुल गांधी ने एक-दूसरे पर जमकर शब्दों के तीर छोड़े.

0
152
पीएम मोदी और राहुल गांधी ने एक-दूसरे पर जमकर शब्दों के तीर छोड़े.

राहुल गांधी के इस वा से बीजेपी बेहाल है. भोपाल पहुंचे पीएम मोदी ने कहा की मोदी यानी हर गारंटी पुरी होने की गांटी है. जब मोदी गारंटी देता है तो वो जमीन पर उतरती है घर-घ पहुंचती है. कांग्रेस पर बड़ा हमला करते हुए पीएम मोदी ने कहा की कांग्रेस को अब कांग्रेस के नेता ही नहीं चला रहे. अब कांग्रेस एक कंपनी बन गई है. नारो से लेकर नीशन तक हर चीज आउटसोर्स कर रही है. यह ठेका अब कुछ अर्बन नक्सल पास है. कांग्रेस में अब अर्बन नक्सलियों की चल रही है. पी यहएम मोदी के इस बयान से साफ है की राहुल की लोकप्रियता और कांग्रेस की बढ़ती ताकत से पीएम मोदी भी घबरा गए हैं. उनको समझ नहीं आ रहा है कि वह कैसे कांग्रेस और राहुल की रफ्तार पर ब्रेक लगाएं.
वहीं राहुल गांधी को पूरा भरोसा है कि पांच में से चार राज्यों के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस की जीत होगी. राहुल के इस विश्वास से पीएम मोदी डर गए हैं. राहुल की इस लकार से बीजेपी परेशान है. वहीं बिहार में कमएम नीतीश की रणनीति से भी बीजेपी परेशान है. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने आज कैबिनेट की बैठक बुलाई थी. आज की बैठक में कई महत्वपूर्ण एजेंडो पर मोहर लगे. बिहार कैबिनेट की बैठक में कुल नौ प्रsवों को मंजूर किया गया है और क्या कुछ खास रहा बैठक में देखते हैं. ये.
बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने ये साफ किया है की अभी मंत्रिमंडल का विस्तार नहीं होने जा रहा है. दरअसल ये बात इसलिए कही जा रही है क्योंकि लगातार एक साल से मंत्रिमंडल विस्तार को लेकर चर्चाओं का बाजार गर्म है. जब से नीतीश कुमार ने महागठबंधन के साथ हाथ मिलाकर.
बिहार में एनडीए से अलग होकर सरकार बनाई है. कांग्रेस की तरफ से दो सीटों की डिमांड लंबे वक्त से की जा रही है. मगर अब मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने ये साफ कर दिया है की मंत्रिमंडल का विस्तार नहीं होगा. इसी के साथसाफ हो गया है की कैबिनेट में अभी कांग्रेस की नई एंट्री नहीं होने वाली है. कम नीतीश की अध्यक्षता में कैबिनेट की छः दिन के अंदर ये दूसरी बैठक हुई थी जिसमें कुल नौ एजेंडों पर मोहर लगी है. बिहार सरकार ने मरीज को बड़ी राहत दी है. पटना के आईजीआई एमएस में मुफ्त दवाई और इलाज होगा. इतना ही नहीं बिहार सरकार ने जांच भी मुफ्त कर दी है. सिर्फ रजिस्ट्रेशनdlकस रूम और प्राइवेट वर्ड में रहने का चार्ज लगेगा.
महागढ़ बदन सरकार के मुफ्त इलाज के एजेंडे की तरह ये स्वीकृति दी गई है.
लोकसभा चुनाव से पहले नीतीश सरकार ने अल्पसंख्या वर्ग के वोट बैंक को पुरी तरह से ध्यान में रखते हुए अल्पसंख्या वर्ग के युवाओं को रोजगार देने के लिए सी अल्पसंख्यक उद्यमी योजना की शुरुआत की है. वहीं कांग्रेस को कैबिनेट मेंे शामिल करने के फैसले को फिलहाल ताल दिया गया है. खबर माने तो प. राज्यों की विधानसभा चुनाव के नतीजे के बाद ही नीतीश कांग्रेस को कैबिनेट में शामिल करने को लेकर फैसला लेंगे. नीतीश के हर गांव से बिहार में बीजेपी को झटका लग रहे हैं. झटका तो आज महाराष्ट्र में अजीत पवार को भी लगा है. एनसीबी नेता अजीत पवार को अपने चाचा शरद पवार से बगावत का नाम महंगा पड़ने वाला है. शरद पवार गुट के नेताओं को अपने खेमे में करने में जते अजीत पवार को एकनाथ खर्चे ने अंगूठा दिखा दिया है. क्या है पुरी खबर देखते हैं.