भारत के राष्ट्रपति और उनका कार्यकाल

0
128
भारत के राष्ट्रपति और उनका कार्यकाल
भारत के राष्ट्रपति और उनका कार्यकाल

भारत के राष्ट्रपति और उनका कार्यकाल:-आज SSCGK आपसे भारत के राष्ट्रपति और उनका कार्यकाल नामक विषय के बारे में विस्तार से चर्चा करेंगे|

इससे पहली पोस्ट में आप HSSC GRAM SACHIV EXAM 2021 के बारे में आप विस्तार से पढ़ चुके हैं।

भारत के राष्ट्रपति और उनका कार्यकाल:-

भारत में राष्ट्रपति को देश का प्रथम नागरिक माना जाता है। इसका कार्यकाल 5 वर्ष का होता है। उसे लोकसभा, राज्यसभा और विधानसभा के निर्वाचित सदस्यों द्वारा चुना जाता है। उसके हाथों में भारतीय सशस्त्र सेनाओं की कमान है। अनुच्छेद 53 के अनुसार संघ की कार्यपालक शक्ति उसमें निहित हैं। देश में अब तक 13 राष्ट्रपति हुए हैं तथा तीन कार्यवाहक राष्ट्रपति हुए हैं, जिनका विवरण निम्नलिखित हैं:-

  1. डॉ.राजेंद्र प्रसाद
  2. डॉ.सर्वपल्ली राधाकृष्णन
  3. डॉ.जाकिर हुसैन
  4. वी.वी.गिरी
  5. मोहम्मद हिदायतुल्लाह
  6. वी.वी.गिरी
  7. डॉ. फखरुद्दीन अली अहमद
  8. बी.डी.जत्ती
  9. नीलम संजीव रेड्डी
  10. ज्ञानी जैल सिंह
  11. आर.वेंकटरमण
  12. डॉ.शंकर दयाल शर्मा
  13. के.आर.नारायणन
  14. डॉ.ए.पी.जे.अब्दुल कलाम
  15. प्रतिभा पाटिल
  16. प्रणब मुखर्जी
  17. रामनाथ कोविंद

LIST OF PRESIDENTS OF INDIA:-

No. 1. डॉ.राजेंद्र प्रसाद:-डॉ राजेंद्र प्रसाद 26 जनवरी 1950 को स्वतंत्र भारत के राष्ट्रपति चुने गए।
इन्होंने 23
मई 1962 तक राष्ट्रपति के रूप में देश की सेवा की । इनका जन्म 1884 में बिहार में हुआ था
तथा मृत्यु 1963
में हुई थी। वे भारत के एकमात्र ऐसे राष्ट्रपति थे जो दो बार राष्ट्रपति(1952 के चुनाव और 1957 के चुनाव) चुने गए।

No. 2. डॉ.सर्वपल्ली राधाकृष्णन:-डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन 13 मई 1962 को भारत के दूसरे राष्ट्रपति चुने गए।
उन्होंने 13
मई 1967 तक राष्ट्रपति के रूप में अपनी सेवाएं दी। एक अच्छे लेखक होने के साथ-साथ दर्शन शास्त्री भी थे।
वे काशी हिंदू विश्वविद्यालय और आंध्र विश्वविद्यालय के कुलपति भी रहे। संपूर्ण भारत में उनके जन्मदिन को
आज अध्यापक दिवस के रूप में मनाया जाता है।

 No. 3. डॉ.जाकिर हुसैन-डॉ. जाकिर हुसैन ने 13 मई 1967 को भारत के तीसरे राष्ट्रपति के रूप में शपथ ली।
वे इस पद पर 3
मई 1969 तक रहे। इससे पहले वे अलीगढ़ मुस्लिमविश्वविद्यालय के कुलपति भी रहे।
अपने उल्लेखनीय योगदान के लिए,
उन्हें भारत रत्न एवं पदम विभूषण जैसे प्रतिष्ठित पुरस्कार भी प्राप्त हुए। 

भारत के राष्ट्रपति और उनका कार्यकाल:-

 No. 4. वी.वी.गिरी:-जब डॉ.जाकिर हुसैन की राष्ट्रपति के पद पर रहते हुए मृत्यु हो गई, तब 3 मई 1969 को
वराह गिरी वेंकट गिरी को कार्यवाहक राष्ट्रपति बनाया गया।इन्होंने 20
जुलाई 1969 तक राष्ट्रपति के रूप में अपनी सेवाएं दी।

No. 5. मोहम्मद हिदायतुल्लाह:- मोहम्मद हिदायतुल्लाह ने 20 जुलाई 1969 को  को भारत के कार्यवाहक
राष्ट्रपति के रूप में शपथ ली।इन्होंने 24
अगस्त 1969 तक राष्ट्रपति के रूप में अपनी सेवाएं दी। इससे पहले
यह भारत के सर्वोच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश रह चुके थे।

No. 6. वराहगिरी वेंकटगिरी:-वराहगिरी वेंकट गिरी को 24 अगस्त 1969 को चौथे राष्ट्रपति के रूप में चुना गया।
इन्होंने 24
अगस्त 1974 तक राष्ट्रपति के रूप में अपनी सेवाएं दी। उल्लेखनीय कार्यों के लिए इन्हें भारत रत्न से सम्मानित किया गया।

 No. 7.डॉ. फखरुद्दीन अली अहमद:-फखरुद्दीन अली अहमद को 24 अगस्त 1974 को देश का पांचवा राष्ट्रपति चुना गया।
इन्होंने 11
फरवरी 1977 तक राष्ट्रपति के रूप में अपनी सेवाएं दी। राष्ट्रपति के पद पर रहते हुए उनकी मृत्यु हो गई ।
ये भारत के दूसरे राष्ट्रपति थे,
जो अपना कार्यकाल पूरा ना कर सके।

 भारत के राष्ट्रपति और उनका कार्यकाल:- 

No. 8.बी.डी.जत्ती:-बासप्पा दनप्पा जत्ती को फखरुद्दीन अली अहमद की मृत्यु के उपरांत 11 फरवरी 1977 को
भारत का कार्यवाहक राष्ट्रपति बनाया गया। इन्होंने 25
जुलाई 1977 तक कार्यवाहक राष्ट्रपति के रूप में अपनी सेवाएं दी।
इससे पहले वे मैसूर राज्य के मुख्यमंत्री भी रहे।

No. 9.नीलम संजीव रेड्डी:-25 जुलाई 1977 को नीलम संजीव रेड्डी को स्वतंत्र भारत के छठे राष्ट्रपति के रूप में चुना गया।
उन्होंने 25
जुलाई 1982 तक राष्ट्रपति के रूप में अपनी सेवाएं दी। इससे पहले ये आंध्र प्रदेश के पहले मुख्यमंत्री भी रहे।

 No. 10.ज्ञानी जैल सिंह:-ज्ञानी जैल सिंह 25 जुलाई 1982 को भारत के सातवें राष्ट्रपति चुने गए। उन्होंने 25 जुलाई 1987
के राष्ट्रपति के रूप में देश को अपनी सेवाएं दी। इससे पहले ये 1972
में पंजाब के मुख्यमंत्री और 1980 में गृह मंत्री भी रहे।

 No. 11. आर.वेंकटरमण:-रामास्वामी वेंकटरमण को 25 जुलाई 1987 को आठवें राष्ट्रपति के रूप में चुना गया।
उन्होंने राष्ट्रपति के रूप में 25
जुलाई 1992 तक अपनी सेवाएं दी। इससे पहले वे भारत के वित्त एवं औद्योगिक मंत्री तथा रक्षा मंत्री भी रहे। 

No. 12. शंकर दयाल शर्मा: शंकर दयाल शर्मा ने 25 जुलाई 1992 को भारत के 9वें राष्ट्रपति के रूप में शपथ ली|
उन्होंने 25
जुलाई 1997 तक राष्ट्रपति के रूप में अपनी सेवाएं दी। इससे पहले वे भारत के संचार मंत्री और मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री भी रहे।

भारत के राष्ट्रपति और उनका कार्यकाल:-

No. 13. के.आर.नारायणन:-के आर नारायणन को 25 जुलाई 1997 को भारत के दसवें राष्ट्रपति के रूप में चुना गया।
इन्होंने 25
जुलाई 2002 तक राष्ट्रपति के रूप में अपनी सेवाएं दी। इन्हें कानून में डॉक्टरेट की उपाधि प्राप्त थी।
इससे पहले ये जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय के कुलपति भी रख रहे।
 

No. 14. डॉ.ए.पी.जे.अब्दुल कलाम:-‘मिसाइल मैन’ के नाम से विख्यात डॉ.ए.पी.जे.अब्दुल कलाम को 25 जुलाई 2002 को
भारत के 11
वें राष्ट्रपति के रूप में चुना गया। इन्होंने 25 जुलाई 2007 तक राष्ट्रपति के रूप में अपनी सेवाएं दी।
अपने उल्लेखनीय योगदान के लिए इन्हें भारत रत्न की उपाधि से अलंकृत किया गया।
 

No. 15. प्रतिभा पाटिल:-भारत की पहली एवं एकमात्र महिला राष्ट्रपति के रूप में प्रतिभा पाटिल को 25 जुलाई 2007 को
12
वें राष्ट्रपति के रूप में चुना गया। उन्होंने 25 जुलाई 2012 राष्ट्रपति के रूप में अपनी सेवाएं दी। इससे पहले
वे राजस्थान की प्रथम महिला राज्यपाल भी रहीं।

भारत के राष्ट्रपति और उनका कार्यकाल:-

No. 16. प्रणब मुखर्जी:-प्रणब मुखर्जी ने 25 जुलाई 2012 को भारत के 13वें राष्ट्रपति के रूप में शपथ ली।
उन्होंने 24
जुलाई 2017 तक राष्ट्रपति के रूप में अपनी सेवाएं दी। इससे पहले वे भारत के वित्त मंत्री,
विदेश मंत्री, रक्षा मंत्री और योजना आयोग के अध्यक्ष भी रहे।

 No. 17. रामनाथ कोविंद -रामनाथ कोविंद ने 25 जुलाई 2017 को भारत के 14वें राष्ट्रपति के रूप में शपथ ली।
यह अभी तक अपने पद पर बने हुए हैं और देश को अपनी सेवाएं दे रहे हैं। राष्ट्रपति बनने से पहले यह बिहार के राज्यपाल रह चुके हैं।

No.18. द्रौपदी मुर्मू

द्रौपदी मुर्मू भारत की 15वीं राष्ट्रपति चुनी गई। इनका जन्म 20 जून 1958 को ओडिशा के मयूरभंज जिले के उपरबेड़ा गांव में एक संथाली आदिवासी परिवार बिरंची नारायण टुडू के घर हुआ था। यह झारखंड की पूर्व राज्यपाल रही हैं। इन्हें वर्ष 2007 में, ओडिशा विधान सभा द्वारा सर्वश्रेष्ठ विधायक (विधान सभा सदस्य) के लिए नीलकंठ पुरस्कार से सम्मानित किया गया था।