उपग्रह की परिभाषा एवं प्रकार

0
129
उपग्रह की परिभाषा एवं प्रकार
उपग्रह की परिभाषा एवं प्रकार

उपग्रह की परिभाषा एवं प्रकार– इस आर्टिकल में SSCGK आज आपसे उपग्रह की परिभाषा एवं प्रकार के बारे में विस्तार से चर्चा करेंगे। इससे पहले आर्टिकल में आप ग्रह की परिभाषा एवं इनकी संख्या के बारे में विस्तार से पढ़ चुके हैं।

उपग्रह की परिभाषा एवं प्रकार

जिस प्रकार से सौर मंडल के सभी ग्रह अपने अक्ष पर घूमने के साथ साथ अपनी-अपनी निर्धारित कक्षाओं में सूर्य के चारों ओर चक्कर लगाने वाले आकाशीय पिंडों को ग्रह कहा जाता है।

इसी तरह से ग्रहों के चारो ओर चक्कर लगाने वाले पिंडों को उपग्रह कहते हैं|  अब प्रश्न यह उठता है कि उपग्रह किसे कहते हैं? आइए इनके बारे में अब हम विस्तार से जानते का प्रयास करते है।

उपग्रह की परिभाषा एवं प्रकार

सौर मंडल के ग्रहों के गुरुत्वीय क्षेत्र के चारों ओर चक्कर लगाने वाले आकाशीय पिंडों को उपग्रह कहते हैं। अंग्रेजी भाषा में उपग्रह को सैटेलाइट कहा जाता है | पृथ्वी के गुरुत्वीय क्षेत्र के चारों ओर या फिर पृथ्वी के आस-पास चक्कर लगाने वाले पिंड भू–उपग्रह कहलाते हैं। ग्रहों के चारो ओर परिक्रमा करने वाले इन उपग्रहों की कक्षाएँ दीर्घ वृत्ताकार या वृत्त में होती है।

DEFINITION OF SATELLITE AND TYPES-

उपग्रह की परिभाषा क्या होती है?:-

ग्रहों के गुरुत्वीय क्षेत्र के चारों ओर चक्कर लगाने वाले आकाशीय पिंडों को उपग्रह कहते

 हैं।”

उदाहरण के रूप में पृथ्वी का भी एक उपग्रह है, जिसका नाम है- चंद्रमा

उपग्रह के प्रकार:-

उपग्रह मुख्य रूप से दो प्रकार के होते हैं:-

No.1. प्राकृतिक उपग्रह

No.2. कृत्रिम उपग्रह

No.1. प्राकृतिक उपग्रह (Natural Satellite)- वे प्राकृतिक आकाशीय पिंड जो ग्रहों के चारो ओर निर्धारित कक्षाओं में  चक्कर लगाते हैं, उन्हें प्राकृतिक उपग्रह कहा जाता है। इंग्लिश भाषा में इन्हें Natural Satellite के नाम से जाना जाता है|

पृथ्वी का प्राकृतिक उपग्रह चंद्रमा है। चंद्रमा भी एक वृत्ताकार कक्षा में पृथ्वी की परिक्रमा करता है। चंद्रमा को पृथ्वी का एक चक्कर लगाने में कुल 27.3 दिन का समय लगता है।

No.2. कृत्रिम उपग्रह(artificial satellite):- मनुष्य द्वारा निर्मित वे उपग्रह, जो मनुष्य द्वारा पृथ्वी की कक्षा में स्थापित कर दिए गए हैं और वह निरंतर पृथ्वी की परिक्रमा कर रहे हैं, ऐसे उपग्रहों को कृत्रिम उपग्रह कहा जाता है।

उपग्रह की परिभाषा एवं प्रकार

दूसरे शब्दों मे हम कह सकते हैं कि कृत्रिम उपग्रह मानव निर्मित ऐसे उपग्रह हैं, मनुष्य द्वारा पृथ्वी की कक्षा में स्थापित कर दिए गए हैं तथा वे अपनी निश्चित कक्षा में पृथ्वी की परिक्रमा करते हैं| ये कृत्रिम उपग्रह अपना संतुलन बनाये रखने के लिए अपने अक्ष पर भी घूमते रहते हैं|

अलग-अलग देशों द्वारा विभिन्न प्रकार के सैटेलाइट  अंतरिक्ष में भेजे जाते है। ये सैटेलाइट पृथ्वी के चारों ओर चक्कर लगाते रहते है| इन से हमारे वैज्ञानिकों को कई प्रकार की अलग-अलग  विचित्र  जानकारियां प्राप्त होती रहती है। हमारा मानव जीवन जिनसे और भी बेहतर बन सके । कृत्रिम उपग्रह के माध्यम से मनुष्य ने उन चीजों के बारे में भी अधिक जानकारी इकट्ठा कर ली, जिन के बारे में भी वह अभी पर्याप्त जानकारी नहीं रखते थे|

उपग्रह की परिभाषा एवं प्रकार

‘’वे पिंड जो मानव के द्वारा बनाए गए हैं तथा पृथ्वी के चारों ओर या किसी अन्य ग्रह के चारों ओर अपने निर्धारित कक्षा में चक्कर लगाते है कृत्रिम उपग्रह कहलाते हैं।‘’

दूसरे शब्दों मे हम कह सकते हैं कि कृत्रिम उपग्रह मानव निर्मित ऐसे उपग्रह हैं जो निश्चित कक्षा में पृथ्वी की परिक्रमा करते हैं| ये उपग्रह अपना संतुलन बनाये रखने के लिए अपने अक्ष पर भी घूमते रहते हैं|

उपग्रह की परिभाषा एवं प्रकार

विभिन्न प्रकार के सैटेलाइट अलग-अलग देशों से  अंतरिक्ष में भेजे जाते है। ये सैटेलाइट पृथ्वी के चारों ओर चक्कर लगाते रहते है| इन सैटेलाइटस से हमारे वैज्ञानिकों को कई प्रकार की अलग-अलग  विचित्र  जानकारीयां प्राप्त होती रहती है। हमारा मानव जीवन जिनसे और भी बेहतर बन सके और उन चीजों के बारे में और भी जानकारी इकट्ठा कर पाए जिन के बारे में भी वह अभी पर्याप्त जानकारी नहीं रखते हैं|

कृत्रिम उपग्रह के उपयोग:- कृत्रिम उपग्रह के कारण मनुष्य को कई क्षेत्रों में काफी लाभ हुआ है। यह कई क्षेत्रों में बहुत उपयोगी सिद्ध हुए हैं, जिनका वर्णन निम्नलिखित है-

नं.1. मौसम की जानकारी:- मौसम संबंधित गतिविधियों की जानकारी तथा मौसम के पूर्वानुमान के लिए भी उपग्रहों का उपयोग किया जाता हैं

नं.2.संचार व्यवस्था में:- उपग्रह के कारण हम मोबाइल, इंटरनेट ,television इत्यादि का उपयोग कर पाते है। विभिन्न प्रकार की संचार गतिविधियों के संचालन में उपग्रहों की मुख्य भूमिका है।

नं.3.वायुमंडल के अध्ययन में:-Satellite का उपयोग वायुमंडल में होने वाली विभिन्न घटनाओं के अध्ययन में किया जाता है।

नं.4. जासूसी कार्य:- कई देश की अनेक प्रकार की जासूसी सम्बन्धी गतिविधियों में भी उपग्रहों का उपयोग होता है|

नं.5. विभिन्न खगोलीय गतिविधियों के अध्ययन तथा उल्कापिंडों के अध्ययन के लिए भी उपग्रहों का उपयोग किया जाता है।

उपग्रह की परिभाषा एवं प्रकार

भू स्थाई उपग्रह किसे कहते हैं?

अपने अक्ष के सापेक्ष पृथ्वी के घूर्णन का आवृतकाल 24 घंटे का होता है। यदि पृथ्वी का परिभ्रमण करने वाले उपग्रह का आवृतकाल भी 24 घंटे हो तो ऐसे उपग्रह को भू स्थाई उपग्रह कहते हैं|

उदाहरण:-

भारत का इनसेट 3A उपग्रह भू स्थाई उपग्रह है। इस उपग्रह की कक्षा वृतीय होनी चाहिए तथा भूमध्य रेखा के तल में होनी चाहिए। भू स्थाई उपग्रह की कक्षा पार्किंग कक्षा कहलाती है। पृथ्वी की सतह से भू स्थाई उपग्रह की ऊंचाई 36000 किलोमीटर है|

उपग्रह की परिभाषा एवं प्रकार

भू स्थाई उपग्रह का उपयोग किस लिए किया जाता है?

1.- उपरी वायुमंडल के अध्ययन के लिए|

2.- मौसम के बारे में पूर्व जानकारी प्राप्त करने के लिए|

3.- उल्कापिंडों का अध्ययन करने के लिए|

4.-दूरभाष संवादों तथा रेडियो के संचार में

Q.ध्रुवीय उपग्रह किसे कहते हैं?

Ans- वे कृत्रिम उपग्रह जिनकी कक्षा का तल पृथ्वी के उतरी व दक्षिणी ध्रुव के समीप से गुजरे तथा जो मध्यम व कम ऊंचाई के होते हैं ध्रुवीय उपग्रह कहलाते है।

उपग्रह की परिभाषा एवं प्रकार

Q.उपग्रह किसे कहते हैं:-

Ans.- दूरस्थ स्थानों की सूचना इन उपग्रहों की सहायता से प्राप्त की जा सकती है। ध्रुवीय उपग्रह दूर संवेदी उपग्रह भी कहलाते है। पृथ्वी की घूर्णन गति के विपरीत ये उपग्रह गति करते है। कुछ घंटे लगभग 100 मिनट इनका परिक्रमण काल होता है। इनकी कक्षा की दिशा उतर से दक्षिण की होती है। ये अपने अक्ष पर पृथ्वी पश्चिम से पूर्व की ओर घूर्णन करते है।

उपग्रह की परिभाषा एवं प्रकार

उपग्रह से संबंधित महत्वपूर्ण तथ्य-

>भारत के सबसे पहले उपग्रह का नाम आर्यभट्ट था|

Q.वर्तमान समय में किस ग्रह के उपग्रह सबसे अधिक हैं या सर्वाधिक उपग्रह वाला ग्रह कौन-सा है?

Ans.-शनि ग्रह के सबसे अधिक 82 उपग्रह हैं|

Q.ग्रह और उपग्रह में क्या अंतर है?

Ans.-ग्रह तारों के चारों ओर चक्कर लगाते हैं जबकि उपग्रह ग्रह के चारों ओर चक्कर लगाते हैं|

Q.सबसे तेज घुमने वाला ग्रह कौन-सा है?

Ans.-बृहस्पति ग्रह सबसे तेज घुमने वाला ग्रह|

उपग्रह की परिभाषा एवं प्रकार

Q.सौरमंडल का सबसे ठंडा ग्रह कौन-सा है?

Ans.-यूरेनस सौरमंडल का सबसे ठंडा ग्रह है। इसका तापमान -216 डिग्री है|

Q.सबसे गर्म ग्रह कौन-सा है?

Ans.- शुक्र ग्रह सबसे गर्म ग्रह है|

Q.पृथ्वी का कौन-सा उपग्रह है?

Ans.- चंद्रमा पृथ्वी का एकमात्र उपग्रह है|

Q.वे कौन-से ग्रह हैं जिनके उपग्रह नहीं हैं?

Ans.-बुध और शुक्र ग्रह का कोई उपग्रह नही है|

Q.यूरेनस के कितने उपग्रह हैं?

Ans.- यूरेनस के 27 उपग्रह हैं|

Q.भारत के सबसे पहले उपग्रह का क्या नाम था?

Ans.-भारत के सबसे पहले उपग्रह का नाम आर्यभट्ट था|

Q.सौरमंडल का सबसे बड़ा ग्रह कौन-सा है?

Ans.-बृहस्पति ग्रह सौरमंडल का सबसे बड़ा ग्रह है|

Q.सौरमंडल का सबसे बड़ा ग्रह कौन-सा है?

Ans.-बृहस्पति ग्रह सौरमंडल का सबसे बड़ा ग्रह है|